Somnath Temple History in hindi, सोमनाथ मंदिर, 2021

 

Somnath  Temple Image

सोमनाथ मंदिर के बारे में जानकारी

नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है मेरे इस लेख में जिसमें मैं आज आपको भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से पहला ज्योतिर्लिंग माने जाने वाले सोमनाथ मंदिर के बारे में बताऊंगा। यह मंदिर सोमनाथ मंदिर गुजरात राज्य के सौराष्ट्र क्षेत्र में अरब सागर के किनारे पर स्थित है। पहले आपको बताता हूँ कि ज्योतिर्लिंग किसे कहते हैं, जहां पर भगवान शिव एक दिव्य रूप में प्रकट होकर ज्योति स्तंभ में परिलीन हो गए, उसे ज्योतिर्लिंग कहते हैं। सोमनाथ ही पहला ज्योतिर्लिंग है जहां भगवान शिव दिव्य रूप में प्रकट हुये थे। यह तीर्थ स्थान देश के प्राचीनतम तीर्थ स्थानों में से एक है, इसका उल्लेख स्कन्द पुराण, श्रीमद भगवत गीता और शिव पुराण आदि ग्रंथो में भी है, ऋग्वेद में भी सोमेश्वर महादेव की महिमा का वर्णन किया गया है।

 

विषय सूची

1-  सोमनाथ मंदिर का धार्मिक महत्व।

2-  सोमनाथ मंदिर का इतिहास।

3-  मंदिर की वास्तुकला।

4-  मंदिर खुलने का समय।

5-  मंदिर के आस-पास घूमने की जगहें।

6-  मंदिर कैसे पहुंचे ?


 

सोमनाथ मंदिर का धार्मिक महत्व Religious Significance of Somnath Temple

सोमनाथ मंदिर के बारे में  वेदों और धार्मिक कथाओं में बताया गया है कि राजा दक्ष प्रजापति की 27 कन्याएँ थी। उन सभी का विवाह चंद्रमा जी के साथ हुआ था। भगवान चंद्र देव उन सभी बहनों में से रोहणी को ही सर्वाधिक प्रेम करते थे। चंद्र देव के इस व्यवहार से दक्ष प्रजापति की अन्य कन्याएँ बहुत परेशान रहती थी, उन सभी बहनों ने अपनी व्यथा दक्ष प्रजापति की सुनाई। चंद्र देव के इस प्रकार के व्यवहार के लिए दक्ष प्रजापति अनेक बार उनको समझाया परन्तु रोहणी के प्रेम के वशीभूत चंद्र देव के ह्रदय पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा। इन सब बातों से परेशान हो कर दक्ष प्रजापति ने क्रोध में आकर चंद्र देव को क्षय ग्रस्त होने का श्राप दे दिया। इस श्राप के कारण चंद्र देव क्षय ग्रस्त हो गए जिसके कारण प्रथ्वी पर सुधा शीतलता का सम्पूर्ण कार्य रुक गया, और चारों दिशाओं में नर-नारायण सभी लोग परेशान हो गए थे। यह सब देख कर चंद्र देव भी बहुत दुखी हो गए थे, और उनकी प्रार्थना सुनकर इन्द्र आदि देवता और वशिष्ठ आदि ऋषि गण उनके उद्धार के लिए पितामह ब्रह्मा के पास गए और उन्हे सम्पूर्ण बात बताई। उनकी बात सुनकर ब्रम्हा जी ने कहा-चंद्रमा अपने श्राप विमोचन के लिए अन्य देवताओं के साथ पवित्र प्रभास क्षेत्र में जाकर महा म्रत्युंजय भगवान शिव की आराधना करें उनकी कृपा से अवश्य ही उनका श्राप नष्ट हो जाएगा और वे क्षय रोग से मुक्त हो जाएंगे।

पुराणों के अनुसार चंद्र देव ने घोर तपस्या करते हुये 10 करोड़ बार महा म्रत्युंजय मंत्र का जाप किया। इस से प्रसन्न हो कर भगवान शिव ने उन्हे अमरत्व का वरदान दिया और भगवान शिव ने चंद्र देव से कहा- चंद्र देव तुम दुखी न हो मेरे वरदान से तुम्हारा श्राप मोचन तो होगा ही और साथ ही प्रजापति दक्ष के वचनों की भी रक्षा होगी। भगवान शिव बोले कृष्ण पक्ष में प्रतिदिन तुम्हारी एक-एक कला खत्म होगी परन्तु शुक्ल पक्ष में उसी क्रम तुम्हारी एक-एक कला बढ़ती जाएगी और प्रत्येक पुर्णिमा को तुम्हें पूरा आकार प्राप्त हो जाएगा। चंद्र देव वरदान मिलने के बाद पुनः दसों-दिशाओं में सुधा वर्षन का कार्य करने लगे। श्राप मुक्त होकर चंद्रमा जी ने अन्य देवताओं के साथ मिलकर भगवान शिव से प्रार्थना की आप माता पार्वती के साथ प्राणियों के उद्धार करने के लिए इसी स्थान पर निवास करें, भगवान शिव जी ने चंद्र देव की बात मानकर ज्योतिर्लिंग के रूप में माता पार्वती के साथ इसी स्थान पर निवास करने लगे। चंद्रमा का एक नाम सोम भी है उन्होने भगवान शिव को ही अपना नाथ मानकर यहाँ तपस्या की थी। इसी कारण इस ज्योतिर्लिंग को सोमनाथ मंदिर कहा जाता है। 

Somnath  Temple Image
Somnath  Temple Image 1


जानिए प्रमुख चार धामों के बारे में


सोमनाथ मंदिर का इतिहास somnath temple history

सोमनाथ मंदिर के इतिहास के बारे में कहा जाता है कि सर्वप्रथम इस मंदिर का निर्माण भगवान सोम देव ( चंद्र देव ) ने करवाया था। उस समय यह मंदिर सोने का बना हुआ था। बाद में जब द्वापर युग में भगवान श्री कृष्ण गुजरात जा कर बसे तो उन्होने इस मंदिर का निर्माण लकड़ियों से करवाया था। बाद में 7 वीं सदी में इस मंदिर का निर्माण वल्लभी के मैत्रक राजाओं ने किया। लेकिन मुगलों के शासन काल के दौरान सिंध के अरब गवर्नर अल-जुनैद ने इस मंदिर का विनाश कर दिया था। सोमनाथ मंदिर को सन 1024 में महमूद गजनवी ने अपने 5000 साथियों के साथ मिलकर तहस-नहस कर दिया था। इस हमले में गजनवी ने 25000 से ज्यादा लोगों को मौत के घाट उतार दिया था,और अपने साथ मंदिर से सोना, चाँदी, हीरे, जवाहरात लूट कर अपने देश वापस चला गया। गजनवी के मंदिर लूटने के बाद राजा भीमदेव इस मंदिर की फिर से प्राण प्रतिष्ठा की थी।

बाद में अलाउद्दीन खिलजी ने सन 1297 ईस्वी में सोमनाथ मंदिर को पुनः ध्वस्त कर दिया और उसके सेनापति नुसरत खाँ ने इस मंदिर को पुनः लूट लिया। फिर बाद में 1815 ईस्वी में प्रतिहार राजा नाग भट्ट द्वितीय ने इस मंदिर का निर्माण तीसरी बार करवाया था। जहां एक ओर हिन्दू शासक मंदिर का बार-बार जीर्णोद्धार कराते तो वही मुस्लिम शासक बार-बार मंदिर को लूट ले जाते थे। मुस्लिम शासकों ने सोमनाथ मंदिर पर 17 बार आक्रमण किया था। 

Somnath  Temple Image
Somnath  Temple Image 2




सोमनाथ मंदिर की वास्तुकला Architecture of Somnath Temple

सोमनाथ मंदिर की वास्तुकला कैलाश महामेरु प्रसाद शैली की चालुक्य शैली में बनाया गया है। इस मंदिर में गुजरात के राजमिस्त्री सोमपुरा सलात के कार्य की स्पष्ट झलक दिखती है। मंदिर के ऊपर जो शिखर बना है उसकी ऊंचाई 15 मीटर है। मंदिर को गर्भ गृह,सभा मंडप और नित्य मंडप तीन भागों में बंटा हुआ है। इस मंदिर की ऊंचाई 150 फुट है। मंदिर के चोटी पर स्थित कलश का वजन 10 टन है, और मंदिर के ऊपर विराजमान  ध्वजा 27 फुट ऊंची है।  

Somnath  Temple Image
Somnath  Temple Image 3


सोमनाथ मंदिर खुलने का समय Somnath Temple Opening Time

सोमनाथ मंदिर का खुलने का समय सुबह 6:00 बजे है।

यहाँ दिन तीन बार आरती होती है, सुबह 7:00 बजे, दोपहर 12:00 बजे और शाम को 7:00 बजे।

मंदिर में होने वाले दैनिक ध्वनि और प्रकाश शो का समय रात 8:00 बजे से रात 9:00 बजे तक है।

मंदिर में दर्शन का समय सुबह 6:00 बजे से रात 9:30 बजे तक होता है।

मंदिर में लाइव दर्शन का समय सुबह 7:00 बजे से रात 8:00 बजे तक होता है।

मंदिर में ड्रेस कोड कोई भी अच्छा पहनावा अभिषेक के दौरान पुरुषों को शर्ट और बनियान उतारनी चाहिए।


सोमनाथ मंदिर के आस पास घूमने की जगहें somnath temple near places

सोमनाथ मंदिर  के आस पास घूमने वाली कुछ प्रमुख जगहों के बारे में जानकारी नीचे दी गयी है।

1- वेनेश्वर महादेव मंदिर 

सोमनाथ में वेनेश्वर महादेव मंदिर सोमनाथ में घूमने के लिए सबसे दिलचस्प स्थानों में से एक है जो सोमनाथ ट्रस्ट धर्मशाला गेट के सामने स्थित है। असामान्य शिखर वाला यह पूर्वमुखी मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। यह मंदिर सोमनाथ मंदिर से लगभग 1 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

2- सोमनाथ बीच 

सोमनाथ बीच अपनी खूबसूरती से जगमगाती लहरों और ग्रे रेत के लंबे खंडों के लिए प्रसिद्ध है। दिन भर के दर्शनीय स्थलों की यात्रा के बाद यात्री यहां आराम कर सकते हैं, हालांकि तैराकी की सलाह नहीं दी जाती है। सूर्यास्त विशेष रूप से सुंदर होते हैं और एक महान दिन के अंत में एक रोमांटिक स्पर्श जोड़ते हैं। यह बीच मंदिर से 1 किलोमीटर की दूरी पर है।

3- प्रभास पाटन संग्रहालय 

यह पुरातत्व संग्रहालय सोमनाथ में सबसे अधिक देखे जाने वाले पर्यटन स्थलों में से एक है। यह संग्रहालय 1921 में स्थापित किया गया था, और इसमें लगभग 3500 वस्तुओं का एक अद्भुत स्मरण संग्रह है।  जिसमें प्राचीन मंदिरों की मूर्तियां और नक्काशीदार पत्थर, शिलालेख, पांच गुंबद, 12 वीं शताब्दी के तोरण, कई नदियों के पवित्र जल, स्तंभ, भगवान की 11 वीं शताब्दी की मूर्तियां शामिल हैं। अग्नि, उमा महेश्वर, भगवान विष्णु, पार्वती और नाट्य भैरव, सीपियां और मिट्टी के बर्तन हैं। यह संग्रहालय मंदिर से लगभग 350 मीटर की दूरी पर स्थित है। 


सोमनाथ मंदिर कैसे पहुंचे How to reach Somnath Temple ?

हवाई मार्ग से सोमनाथ मंदिर में पहुँचने के लिये दीव हवाई अड्डे से ऑटो टैक्सी या टैक्सी के माध्यम से पहुँच सकते हैं। हवाई अड्डे से मंदिर की दूरी लगभग 80 किलोमीटर है।

रेल मार्ग से सोमनाथ मंदिर में पहुँचने के लिये सोमनाथ रेलवे स्टेशन से ऑटो टैक्सी या पैदल ही मंदिर परिसर तक पहुँच सकते हैं। रेलवे स्टेशन से मंदिर की दूरी लगभग 3 किलोमीटर है।

रोड मार्ग से सोमनाथ मंदिर में पहुँचने के लिये गुजरात राज्य के किसी भी शहर से परिवहन निगम की बसों,निजी बसों और टैक्सियों के माध्यम से मंदिर परिसर में पहुँच सकते हैं।

Somnath  Temple Road Map


 

सोमनाथ मंदिर के पास के होटल Hotels near Somnath Temple

यह होटल सोमनाथ मंदिर से 3 किलोमीटर की दूरी के अंदर स्थित है।

1-The Fern Residency Somnath

2-The Square Somnath

3-Hotel Bansidhar-Somnath

4-The Bliss Hotel

5-The Somnath Gateway

6-Hotel Majestic Somnath

7-Hotel Somnath Sagar

8-SHREE HOTEL SHIVDHARA

9-Bhalkeshwar Villa & Resort

10-HOTEL DAMODAR


FAQ

Q- सोमनाथ मंदिर किस राज्य में है ?

A- सोमनाथ मंदिर गुजरात राजी में स्थित है।

Q- सोमनाथ मंदिर किसने बनवाया था ?

A- सोमनाथ मंदिर को सर्वप्रथम चंद्र देव ने बनाया  था। लेकिन बाद में प्रतिहार राजा नाग भट्ट द्वितीय ने बनवाया।

Q- सोमनाथ मंदिर पर आक्रमण कब हुआ ?

A- सोमनाथ मंदिर पर सन 1025 ईस्वी में हुआ था।

Q- सोमनाथ मंदिर पर आक्रमण किसने किया ?

A- सोमनाथ मंदिर पर महमूद गजनवी ने आक्रमण किया था।

Q- सोमनाथ मंदिर को किसने लूटा ?

A- सोमनाथ मंदिर को महमूद गजनवी ने लूटा।

Q- गुजरात के सोमनाथ मंदिर पर गजनी के किस सुल्तान ने आक्रमण किया ?

A- सोमनाथ मंदिर पर गजनी के सुल्तान महमूद गजनवी ने आक्रमण किया था।

Q- सोमनाथ मंदिर किस जिले में है ?

A- सोमनाथ मंदिर गिर सोमनाथ जिले में है।

 

Conclusion

आशा करता हूँ कि मैंने जो आपको सोमनाथ मंदिर के बारे में आपको जानकारी दी वह आपको अच्छे से समझ आ गयी होगी। मैंने इस पोस्ट में इस मंदिर से संबन्धित सम्पूर्ण जानकारी देने का प्रयास किया है।

अगर आप किसी मंदिर के बारे में जानना चाहते हो तो हमें कमेंट करके बताएं। जो भी लोग आपके आस पास में या आपके दोस्तो में मंदिरों के बारे में जानना चाहते हैं, आप उनको हमारा पोस्ट शेअर कर सकते है। हमारी पोस्ट को अपना कीमती समय देने के लिए धन्यवाद।

 
Note

अगर आपके पास सोमनाथ मंदिर के बारे में और अधिक जानकारी है तो आप हमारे साथ शेअर कर सकते हैं, या आपको मेरे द्वारा दी गयी जानकारी आपको गलत लगे तो आप तुरंत हमे कॉमेंट करके बताएं। 


 



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ