Chattarpur Mandir, छत्तरपुर मंदिर, प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर, 2021

 

Chattarpur Mandir, छत्तरपुर मंदिर

छत्तरपुर मंदिर के बारे में जानकारी

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आप सभी का मेरी एक और नई पोस्ट में जिसमें मैं आज आपको छत्तरपुर मंदिर के बारे में बताऊँगा। यह मंदिर हमारे देश की राजधानी नई दिल्ली में स्थित एक प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर है। यह मंदिर माता कात्यायनी देवी को समर्पित है। यह मंदिर एक विशाल क्षेत्र में फैला हुआ है, इस मंदिर को अक्षरधाम मंदिर के बाद भारत में दूसरे सबसे बड़े मंदिर परिसर का दर्जा मिला हुआ है। इस मंदिर में पीठासीन देवी माँ को शक्ति के रूप में पूजा जाता है। नवरात्रों के समय इस मंदिर में बहुत भीड़ भाड़ रहती है।

 

विषय सूची

1-  छत्तरपुर मंदिर का इतिहास।

2-  छत्तरपुर मंदिर का पौराणिक इतिहास।

3-  छत्तरपुर मंदिर की वास्तुकला।

4-  छत्तरपुर मंदिर में मनाए जाने वाले त्योहार।

5-  छत्तरपुर मंदिर के खुलने का समय।

6-  छतरपुर मंदिर में मिलने वाली सुविधाएं।

7-  छतरपुर मंदिर के पास घूमने वाले स्थान। 

8-  छतरपुर मंदिर में कैसे पहुँचें ?

 

 

 छत्तरपुर मंदिर का इतिहास History of Chattarpur Temple

छत्तरपुर मंदिर का निर्माण सन 1974 में किया गया था। इस मंदिर का निर्माण बाबा संत नागपाल जी द्वारा किया गया था। मंदिर निर्माण के बाद इसकी देख भाल का कार्य स्वयं बाबा नागपाल जी किया करते थे। सन 1998 में बाबा की मृत्यु हो गई। उनकी मृत्यु के बाद इस मंदिर का संचालन ट्रस्ट द्वारा किया जाता है। बाबा की मृत्यु के बाद उनकी समाधि यही मंदिर परिसर के भीतर ही बनाई गई है।

 

छत्तरपुर मंदिर का पौराणिक इतिहास Mythological History of Chhatarpur Temple

छत्तरपुर मंदिर की आराध्य कात्यायनी देवी के बारे में हमारे धार्मिक ग्रंथों में बताया गया है कि एक महिषासुर नामक राक्षस ने पूरे पृथ्वी लोक में हाहाकार मचाया था। इस राक्षस ने यहाँ रहने वाले सभी प्राणियों को अपने अत्याचार का शिकार बनाया था। पृथ्वी लोक पर सभी प्राणियों को दुखी देखकर ब्रह्मा, विष्णु और महेश तीनों देवताओं ने अपनी शक्तिओं से एक शक्ति स्वरूप देवी की संचरना की, और उस देवी को विभिन्न प्रकार की शक्तियां प्रदान की गई। इस देवी का नाम कात्यायनी देवी रखा गया। बाद में पृथ्वी पर प्राणियों को दुखी देखकर माता ने धरती पर अवतार लिया और महिषासुर नामक राक्षस को मार गिराया। बाद में बाबा नागपाल जी ने माता के इसी स्वरूप को यहाँ मंदिर के रूप में स्थापित किया।

 

दिल्ली में स्थित कालकाजी मंदिर के बारे में जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें। 


छत्तरपुर मंदिर की वास्तुकला Architecture of Chhattarpur Temple

छत्तरपुर मंदिर 60 एकड़ के एक विशाल क्षेत्र में फैला हुआ है। यह मंदिर दक्षिण और उत्तर भारतीय दोनों शैलियों में बना हुआ है। इस परिसर में छोटे और बड़े मंदिरों को मिलाकर लगभग 20 मंदिरों का समूह है। इस मंदिर की मुख्य देवी माँ कात्यायनी है। इस मंदिर के पीछे एक पार्श्व मंदिर है, जो सिर्फ नवरात्रियों के समय खुलता है। इस मंदिर के कमरों में एक कमरे में माता के लिए चाँदी से बने टेबल और कुर्सियाँ और दूसरे कमरे में माता के सोने के लिए बैड रखा गया है। इस परिसर में एक विशाल सत्संग हॉल बनाया गया है, जहां पर बहुत  लोग इकट्ठा होते हैं और विभिन्न प्रकार की धार्मिक गतिविधियां, प्रवचन और भजन आदि करते हैं। इस मंदिर परिसर में एक विशाल प्राचीन कल्पवृक्ष भी विराजमान है, जहां पर भक्त लोग धागा बांधते हैं और आपनी मनोकामना पूरी करने की माता से प्रार्थना करते हैं। यहाँ पर माँ कात्यायनी के साथ राधा कृष्ण और भगवान गणेश के मदिर भी विराजमान हैं।

 

Chattarpur Mandir, छत्तरपुर मंदिर

छत्तरपुर मंदिर में मनाए जाने वाले त्योहार Festivals Celebrated in Chattarpur Temple

छत्तरपुर मंदिर पूरे साल धार्मिक और आध्यात्मिक उत्साह में डूबा रहता है। लेकिन इस मंदिर में मनाए जाने वाले प्रमुख त्योहार नवरात्र और दुर्गा पूजा हैं। इन त्योहारों के समय यहाँ बहुत अधिक मात्रा लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। नवरात्रों में यहाँ नौ दिवसीय उत्सव मनाया जाता है। उस दौरान यहाँ 24 घंटे पूजा की जाती है। इस पूजा में कोई भी व्यक्ति शामिल हो सकता है। इन त्योहारों के अतिरिक्त यहाँ महाशिवरात्रि, कृष्ण जन्माष्टमी, बाबाजी का जन्मदिन, गुरु पूर्णिमा और बाबाजी का निर्वाण दिवस को यहाँ बड़े उत्साह के साथ मनाए जाता है। मंदिर में पूजा पाठ हिंदू वैदिक सभ्यता के अनुसार ही की जाती है।

 

छत्तरपुर मंदिर के खुलने का समय Chhattarpur Temple Opening Time

छत्तरपुर मंदिर के खुलने और बंद होने के बारे में और यहाँ होने वाली विभिन्न प्रकार की पूजा और आरतियों के बारे में नीचे बताया गया है।

मंदिर खुलने का समय –             सुबह 4 बजे।

मंगला आरती का समय –            सुबह 5:30 बजे।

श्रृंगार आरती का समय -              सुबह 7:00 बजे।

संध्या आरती का समय -               शाम 7:00 बजे।

शयन आरती का समय -               रात्री 11:30 बजे।

माता की चौकी नवरात्रि के समय -   सुबह 8:30 बजे से दोपहर 11:30 बजे तक।

मंदिर बंद होने का समय -              रात्री 11:30 बजे की आरती कर बाद।

 

उत्तराखंड के प्रसिद्ध मंदिर जागेश्वर के बारे में जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें। 


छतरपुर मंदिर में मिलने वाली सुविधाएं Facilities available in Chhatarpur Temple

छतरपुर मंदिर में 12 हॉल और 36 कमरे हैं। जिनका उपयोग यहाँ आने वाले भक्तों और स्वयंसेवकों के लिए किया जाता है। अगर आप अपनी गाड़ी से इस मंदिर में आ रहे हो तो यहाँ श्रद्धालुओं के लिए नि:शुल्क पार्किंग उपलब्ध है। मंदिर में भक्तों की सुविधा के लिए जूता रैक, क्लोक रूम और पीने का पानी उपलब्ध रहता है। इस परिसर के आस पास विभिन्न प्रकार के प्रसाद, धार्मिक पुस्तकें और मूर्तियों को खरीदने के लिए दुकानें भी स्थित हैं।

 

Chattarpur Mandir, छत्तरपुर मंदिर

छतरपुर मंदिर के पास घूमने वाले स्थान Places to visit near Chhatarpur Temple

छतरपुर मंदिर दिल्ली में घूमने वाली कुछ प्रमुख जगहों के बारे में नीचे बताया गया है, आप यहाँ आपने परिवार के साथ घूमने जा सकते हो।

1- स्वामीनारायण मंदिर अक्षरधाम 

स्वामीनारायण मंदिर देखने के लिए बहुत शानदार जगह है। यहाँ की अकल्पनीय वास्तुकला, शानदार थीम शो, डायोरमा और आई मैक्स प्रेजेंटेशन बहुत सुंदर हैं। यदि कोई पर्यटक जो अपने धर्म या पंथ के प्रति समर्पित है, तो उसे यह मंदिर अवश्य देखना चाहिए। यह पूरी तरह से स्वैच्छिक समर्थन से पांच साल में एक व्यक्ति की रचना है। यह स्मारक हर भारतीय को गौरवान्वित करता है।

2- राज घाट 

राज घाट महात्मा गांधी के लिए खुले में बना एक स्मारक है। इस स्मारक के केंद्र बिंदु एक काले संगमरमर के पत्थरों का मंच है। इस स्थान पर महात्मा गांधी की हत्या के बाद उनका अंतिम संस्कार किया गया था। यह एक शांतिपूर्ण और सुंदर स्थल है। यहाँ पर प्रत्येक शुक्रवार को स्मृति समारोह आयोजित किए जाते हैं।

3- इंडिया गेट 

इंडिया गेट का निर्माण सन 1931 ईस्वी में किया गया था। सर एडविन लुटियंस द्वारा इसको डिजाइन किया गया था। इंडिया गेट प्रसिद्ध आर्क डी ट्रायम्फ से प्रेरित था। इंडिया गेट का निर्माण युद्ध में शहीद हुये जवानों की याद में बनाया गया है। इस गेट में सेनिकों की याद में अमर ज्योति जलती रहती है।

4- मैडम तुसाद दिल्ली 

मर्लिन एंटरटेनमेंट्स भारत में मैडम तुसाद म्यूजियम की जादुई दुनिया लेकर आया है। दुनिया की सबसे बड़ी यूरोपीय एंटरटेनमेंट कंपनी मर्लिन एंटरटेनमेंट्स और रीगल सिनेमा बिल्डिंग नई दिल्ली में भारत का अपना पहला मैडम तुसाद लायी थी। इस म्यूजियम का उद्देश्य एक अनूठा, यादगार और पुरस्कृत अनुभव बनाना है। जो प्रमुख हस्तियों के पुतले बनाकर उनको अपने म्यूजियम रखते है।

5- क़ुतुब मीनार 

यह नई दिल्ली के महरौली क्षेत्र में यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है। यह शहर के सबसे अधिक देखे जाने वाले पर्यटन स्थलों में से एक है, क्योंकि यह भारतीय उपमहाद्वीप में सबसे पहले जीवित रहने वाले स्थानों में से एक है। इसकी तुलना अफगानिस्तान में जाम की 62 मीटर की पूरी-ईंट मीनार से की जाती है। जिसका निर्माण दिल्ली टावर की संभावित शुरुआत से लगभग एक दशक पहले किया गया था। दोनों की सतहों को विस्तृत रूप से शिलालेखों और ज्यामितीय पैटर्न से सजाया गया है।

 

Chattarpur Mandir, छत्तरपुर मंदिर

छतरपुर मंदिर में कैसे पहुँचें How to reach Chhatarpur Temple ?

हवाई मार्ग से छतरपुर मंदिर में पहुँचने के लिये इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से टैक्सी या ऑटो टैक्सी से पहुँच सकते हैं। हवाई अड्डे से मंदिर लगभग 10 किलोमीटर दूर स्थित है।

 

रेल मार्ग से छतरपुर मंदिर में पहुँचने के लिये हज़रत निज़ामुद्दीन रेलवे स्टेशन या दिल्ली मे स्थित किसी भी रेलवे स्टेशन से ऑटो टैक्सी या टैक्सी के माध्यम से मंदिर परिसर तक पहुँच सकते हैं। नयी दिल्ली रेलवे स्टेशन से मंदिर की दूरी लगभग 11 किलोमीटर है।

 

रोड मार्ग से छतरपुर मंदिर में पहुँचने के लिये दिल्ली शहर के किसी भी कोने से दिल्ली परिवहन निगम की बसों,निजी बसों और टैक्सियों के माध्यम से मंदिर परिसर में पहुँच सकते हैं।

 

मेट्रो से सफर करना एक वातानुकूलित सफर का विकल्प हैं जो दिल्ली के हर नुक्कड़ और कोने को जोड़ती हैं। इसलिए आप मेट्रो से इस मंदिर में पहुँचने के लिए छतरपुर मेट्रो स्टेशन से जा सकते है।

 

Chattarpur Mandir Road Map

छतरपुर मंदिर के पास के होटल Hotels near Chhatarpur Mandir

छतरपुर मंदिर के आस पास स्थित होटलों के बारे मे जानकारी नीचे दी गयी है। आप अपनी सुविधानुसार किसी भी होटल में रुक सकते हैं। ये सभी होटल मंदिर के पास ही स्थित हैं-

1- Hotel Vista.

2- The Ocean Pearl Retreat.

3- Anantkoti Hotel.

4- Hide-In Hostel.

5- ANAND BHAWAN.

6- Lemon Green Residency.

7- Oodles Hotel.

8- Ricotta Regency (A unit of Raj Hospitality).

9- Tivoli Garden Resort Hotel.

10- Cavesbyindrajeet.

 

Conclusion

आशा करता हूँ कि मैंने जो आपको छतरपुर मंदिर के बारे में आपको जानकारी दी वह आपको अच्छे से समझ आ गयी होगी। मैंने इस पोस्ट में इस मंदिर से संबन्धित सम्पूर्ण जानकारी देने का प्रयास किया है।

अगर आप किसी मंदिर के बारे में जानना चाहते हो तो हमें कमेंट करके बताएं। जो भी लोग आपके आस पास में या आपके दोस्तो में मंदिरों के बारे में जानना चाहते हैंआप उनको हमारा पोस्ट शेअर कर सकते है। हमारी पोस्ट को अपना कीमती समय देने के लिए धन्यवाद।

 Note        

अगर आपके पास छतरपुर मंदिर के बारे में और अधिक जानकारी है तो आप हमारे साथ शेअर कर सकते हैंया आपको मेरे द्वारा दी गयी जानकारी आपको गलत लगे तो आप तुरंत हमे कॉमेंट करके बताएं। 

 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ