Header Ads Widget

दुर्गियाना मंदिर अमृतसर, Durgiana Mandir In Hindi, 2022


दुर्गियाना मंदिर के बारे में जानकारी

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आप सभी का मेरे एक और नये लेख में जिसमें मैं आज आपको दुर्गियाना मंदिर के बारे में बताऊँगा। दुर्गियाना मंदिर पंजाब के अमृतसर शहर में स्थित एक प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर है। इस मंदिर की पीठासीन मुख्य देवी दुर्गा माता जी हैं। माता दुर्गा के नाम पर ही इस मंदिर का नाम दुर्गियानामंदिर रखा गया है। यह मंदिर पंजाब में स्थित हिन्दुओं का बहुत प्रसिद्ध मंदिर है। इस मंदिर परिसर में माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु की मूर्तियाँ भी विराजमान है, इसलिए यह मंदिर भक्तों के बीच यह मंदिर लक्ष्मी नारायण मंदिर के रूप में जाना जाता है।

 

दुर्गियाना मंदिर अमृतसर, Durgiana Mandir

विषय-सूची

1- दुर्गियाना मंदिर का इतिहास।

2- दुर्गियाना मंदिर का धार्मिक महत्व।

3- दुर्गियाना मंदिर की वास्तुकला।

4- दुर्गियाना मंदिर का खुलने का समय।

5- दुर्गियाना मंदिर में मनाये जाने वाले त्योहार।

6- दुर्गियाना मंदिर के आस पास घूमने के स्थान।

7- दुर्गियाना मंदिर अमृतसर में कैसे पहुँचे ?

8- दुर्गियाना मंदिर अमृतसर के पास के होटल।

 

दुर्गियाना मंदिर का इतिहास

दुर्गियाना मंदिर के इतिहास के बारे में बताया जाता है, कि इस मंदिर के प्रांगण में एक पेड़ था जिसमें लव और कुश ने महाराजा श्री राम के अश्वमेध यज्ञ को बांध दिया था। बाद में इस घोड़े को छुड़ाने आए हनुमान जी को भी इस पेड़ से बांध दिया था। तब से यह मंदिर बहुत प्रसिद्ध हो गया था। यहाँ पर मूल मंदिर का निर्माण 16 वीं शताब्दी में किया गया था। बाद में सन 1921 ईस्वी में हरसाई मल कपूर जी इस मंदिर के वर्तमान स्वरूप का निर्माण किया। उस समय निर्मित इस मंदिर का उद्घाटन पंडित मदन मोहन मालवीय ने किया था।

 

उत्तराखंड के प्रसिद्ध मंदिरों के इतिहास के बारे में जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें।


दुर्गियाना मंदिर का धार्मिक महत्व

अमृतसर शहर की धार्मिक और सांस्कृतिक विरासत में दुर्गियाना मंदिर का काफी महत्व है। दुर्गियाना मंदिर में चाँदी के दरवाजे हैं। जिस कारण इसे वहाँ चाँदी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। अमृतसर का स्वर्ण मंदिर और चांदी का मंदिर इस शहर के मुख्य धार्मिक स्थल हैं। इस मंदिर में प्रतिदिन, शुभ दिनों और उत्सव के दिनों में वैदिक नियमों के अनुसार विभिन्न प्रकार के धार्मिक कार्य और अनुष्ठान किए जाते हैं। यह मंदिर पंजाब में सबसे अधिक देखे जाने वाले हिन्दू मंदिरों में से एक है। इस मंदिर परिसर में लक्ष्मी देवी, भगवान नारायण, भगवान विष्णु और भगवान कृष्ण के मंदिर भी विराजमान हैं। यह मंदिर सभी भक्तों के बीच काफी लोकप्रिय है और अमृतसर शहर में दुर्गियाना मंदिर का अपना एक अलग ही महत्व है।

 

दुर्गियाना मंदिर अमृतसर, Durgiana Mandir

दुर्गियाना मंदिर की वास्तुकला

दुर्गियाना मंदिर की वास्तुकला और बनावट काफी हद तक स्वर्ण मंदिर की स्थापत्य शैली से मिलती जुलती है। इस मंदिर का मुख्य मंदिर गुम्मदाकार में बना है। जो भक्तों के बीच काफी लोकप्रिय है। मंदिर परिसर में एक बड़े आकार का सुंदर नक्काशीदार स्तंभों पर बना प्रार्थना कक्ष विराजमान है। इस प्रार्थना कक्ष में वेंटिलेशन के लिए बड़े-बड़े आकार के दरवाजे और खिड़कियां बनाई गई हैं। इस मंदिर के फर्श और छत प्रत्येक पहलू में स्वर्ण मंदिर की ही शैली का अनुसरण करते हैं। इस मंदिर के दरवाजे चाँदी के बने हुए हैं। मंदिर परिसर के अंदर कई अन्य देवी-देवताओं छोटे-छोटे मंदिर विराजमान हैं। स्वर्ण मंदिर और दुर्गियाना मंदिर संरचनायें एक दूसरे से मेल खाती हैं।

 

दुर्गियाना मंदिर का खुलने का समय

अमृतसर शहर में स्थित दुर्गियाना मंदिर पूरे सप्ताह में खुले रहता है। आप किसी भी दिन इस मंदिर में दर्शन के लिए आ सकते हो। यह मंदिर प्रतिदिन सुबह 6:00 बजे खुल जाता है। दिन भर भक्तगण इस मंदिर में पूजा पाठ करते हैं और यह मंदिर रात 10:00 बजे बंद हो जाता है। कोरोना काल समाप्त होने के बाद यह मंदिर आज कल खुला हुआ है।

 

दुर्गियाना मंदिर अमृतसर, Durgiana Mandir

दुर्गियाना मंदिर में मनाये जाने वाले त्योहार

दुर्गियाना मंदिर में प्रत्येक हिंदू त्योहारों को भव्य उत्सव के साथ मनाया जाता है। इस मंदिर में विभिन्न प्रकार के यज्ञ, पूजा और हवन का आयोजन प्राचीन वैदिक नियमों के अनुसार किया जाता है। दुर्गियाना मंदिर में नवरात्रि का त्योहार बड़े धूम-धाम से मनाया जाता है। नवरात्रों में इस सम्पूर्ण मंदिर परिसर को शानदार ढंग से सजाया जाता है। यह राज्य का एकमात्र हिन्दू मंदिर है इसलिए इस मंदिर में भीड़ भाड़ भी बहुत अधिक रहती है। इस मंदिर में देश विदेशों से प्रतिदिन हजारों पर्यटक इस मंदिर के दर्शन के लिए आते हैं और माता से उनकी मनोकामना पूरी करने की प्रार्थना करते हैं। जब भक्तों की प्रार्थना संतोषजनक तरीके से पूरी होती है तो लोग धन्यवाद देने के लिए दोबारा इस मंदिर में जाते हैं।

 

दुर्गियाना मंदिर का पता

दुर्गियाना मंदिर का पता - गोल बाग, अमृतसर, पंजाब 143001, भारत।

 

गुजरात के प्रसिद्ध मंदिरों के इतिहास के बारे में जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें।


दुर्गियाना मंदिर के आस पास घूमने के स्थान

दुर्गियाना मंदिर के पास घूमने वाली बहुत सी खूबसूरत जगहें हैं जिनमे से कुछ जगहें के बारे में जानकारी नीचे दी गयी है –

स्वर्ण मंदिर

स्वर्ण मंदिर को हरमंदिर साहिब के नाम से भी जाना जाता है, जिसका अर्थ है हर किसी का मंदिर या घर। यह पंजाब के अमृतसर शहर में स्थित सिखों का सबसे पवित्र गुरुद्वारा है। इस गुरुद्वारे का निर्माण सन 1577 ईस्वी में गुरु राम दास जी ने करवाया था। इस स्वर्ण मंदिर को कई बार मुस्लिम आक्रमणकारियों ने नष्ट करने की कोशिश की लेकिन यहाँ के सिख और हिन्दू राजाओं ने इस मंदिर का बचाव किया और इसका पुनर्निर्माण करते रहे।

जलियांवाला बाग

जलियांवाला बाग एक ऐतिहासिक और राष्ट्रीय महत्व का स्मारक है।  यह बाग अमृतसर, में स्वर्ण मंदिर परिसर के पास स्थित है। यह स्मारक 13 अप्रैल 1919 को जलियांवाला बाग नरसंहार में घायल और मारे गए लोगों की याद में बनाया गया है। यह स्मारक 7 एकड़ की क्षेत्र में फैला हुआ हैं। इसका प्रबंधन जलियांवाला बाग नेशनल मेमोरियल ट्रस्ट द्वारा किया जाता है।

विभाजन संग्रहालय अमृतसर

विभाजन संग्रहालय अमृतसर के टाउन हॉल में स्थित एक सार्वजनिक संग्रहालय है। इस संग्रहालय में भारत के विभाजन के बाद हुए दंगों से संबंधित कहानियों, सामग्रियों और दस्तावेजों को रखा गया है। यह संग्रहालय 25 अगस्त 2017 को आम लोगों के लिए खोला गया था।

गोबिंदगढ़ किला

गोबिंदगढ़ किला अमृतसर शहर में स्थित एक ऐतिहासिक सैन्य किला है। शुरुवात में इस किले की देखभाल सेना द्वारा की जाती थी, लेकिन फरवरी 2017 से इसे जनता के लिए खोल दिया गया था। इस किले को एक संग्रहालय और थीम पार्क के रूप में विकसित किया गया है।

अकाल तख्त

अकाल तख्त सिखों के पांच तख्तों में से एक है। यह अमृतसर के दरबार साहिब परिसर में स्थित है। अकाल तख्त का निर्माण श्री गुरु हरगोबिंद जी द्वारा न्याय और अस्थायी मुद्दों के समाधान के लिए किया था। यह तख्त खालसा के अधिकार की सर्वोच्च सीट और सिखों के सर्वोच्च प्रवक्ता जत्थेदार का स्थान होता है।

 

दुर्गियाना मंदिर अमृतसर, Durgiana Mandir

दुर्गियाना मंदिर अमृतसर में कैसे पहुँचे ?

हवाई मार्ग से दुर्गियाना मंदिर अमृतसर में पहुँचने के लिये अमृतसर हवाई अड्डे से टैक्सी या बस के माध्यम से पहुँच सकते हैं। हवाई अड्डे से मंदिर की दूरी लगभग 12 किलोमीटर है।

रेल मार्ग से दुर्गियाना मंदिर अमृतसर में पहुँचने के लिये अमृतसर जंक्शन से ऑटो टैक्सी या पैदल ही मंदिर परिसर तक पहुँच सकते हो। इस जंक्शन से मंदिर की दूरी लगभग 700  मीटर है।

रोड मार्ग से दुर्गियाना मंदिर अमृतसर में पहुँचने के लिये पंजाब राज्य के किसी भी शहर से परिवहन निगम की बसों, निजी बसों और टैक्सियों के माध्यम से मंदिर परिसर में पहुँच सकते हैं।

 

Durgiana Mandir Road Map


दुर्गियाना मंदिर अमृतसर के पास के होटल

दुर्गियाना मंदिर अमृतसर के आस पास स्थित होटलों के बारे मे जानकारी नीचे दी गयी है। आप अपनी सुविधानुसार किसी भी होटल में रुक सकते हैं। ये सभी होटल मंदिर के पास ही स्थित हैं-

1- 4N Homestay.

2- Vrinda Apartments.

3- Hotel Heaven View - 50m From Golden Temple.

4- Ranjit's Svaasa Amritsar.

5- Shree Hari castle.

6- Malhotra Guest House.

7- Shree Hari castle.

8- Shiv Shankar Guest House.

9- Shree Krishna Hotels.

10- Hotel swaran.

 

Conclusion

आशा करता हूँ कि मैंने जो आपको दुर्गियाना मंदिर अमृतसर के बारे में आपको जानकारी दी वह आपको अच्छे से समझ आ गयी होगी। मैंने इस पोस्ट में इस मंदिर से संबन्धित सम्पूर्ण जानकारी देने का प्रयास किया है।

अगर आप किसी मंदिर के बारे में जानना चाहते हो तो हमें कमेंट करके बताएं। जो भी लोग आपके आस पास में या आपके दोस्तो में मंदिरों के बारे में जानना चाहते हैं, आप उनको हमारा पोस्ट शेअर कर सकते है। हमारी पोस्ट को अपना कीमती समय देने के लिए धन्यवाद।

Note

अगर आपके पास दुर्गियाना मंदिर अमृतसर के बारे में और अधिक जानकारी है तो आप हमारे साथ शेअर कर सकते हैं, या आपको मेरे द्वारा दी गयी जानकारी आपको गलत लगे तो आप तुरंत हमे कॉमेंट करके बताएं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ